नोटिस : यू०पी०सी०एल०डी०एफ० की विभागीय वेबसाइट पर भवन निर्माण हेतु ठेकेदारों /फर्मो के आवेदन की तिथि 26-12-2023 से 04-02-2024 आमंत्रित किये जाते हैं | वेबसाइट से प्राप्त फार्म एवं सम्बंधित मूल प्रपत्रों के साथ बंद लिफाफे में यू०पी०सी०एल०डी०एफ० लखनऊ मुख्यालय जमा करे | पंजीकरण करे >>>

श्री जे०पी०एस० राठौर
Minister image

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), सहकारिता विभाग

श्री बी०एल० मीणा
Minister image

प्रमुख सचिव (सहकारिता विभाग)

श्री यशवीर सिंह
Sabhapati
सभापति
श्री राम प्रकाश
Minister image

प्रबंध निदेशक


   उ०प्र० राज्य निर्माण एवं श्रम विकास सहकारी संघ लि०

नोटिस : यू०पी०सी०एल०डी०एफ० की विभागीय वेबसाइट पर आर्किटेक्ट/स्ट्रक्चरल फर्मो के आवेदन की तिथि 08-12-2023 से 05-01-2024 आमंत्रित किये जाते हैं | वेबसाइट से प्राप्त फार्म एवं सम्बंधित मूल प्रपत्रों के साथ बंद लिफाफे में दिनांक
05-01-2024 तक यू०पी०सी०एल०डी०एफ० लखनऊ मुख्यालय पर जमा करे | डाऊनलोड पंजीकरण फॉर्म (Registrartion Form) >>>

प्रारंभिक श्रम सहकारी समितियों की शीर्ष संस्था के रूप में उ०प्र० श्रम संविदा सहकारी संघ लि0, लखनऊ का निबन्धन वर्ष 1972 में हुआ था |

1. मुख्य उद्देश्य सहकारी, सरकारी एवं विभिन्न उपक्रमों के निर्माण से सम्बन्धित कार्य प्राप्त करके सदस्य श्रम समितियों के माध्यम से कराना था, वर्तमान में 335 सहकारी समितियां सदस्य है।

2. वर्ष 1980 में श्रम संविदा सहकारी संघ लि0, लखनऊ का नाम परिवर्तित कर उ0प्र0 श्रम एवं निर्माण सहकारी संघ लि0, लखनऊ रखा गया। उपविधि में आवश्यक संशोधन कर वर्ष 2014 में संघ के नाम को परिवर्तित कर “उ०प्र० राज्य निर्माण एवं श्रम विकास सहकारी संघ लि0” (UPCLDF) रखा गया। वर्तमान में कुल 10 निर्माण प्रखंड स्थापित है |

3. शासनादेश संख्या-19/2018/बी-2-1143/दस-2018, दिनांक 17.12.2018 द्वारा पुनः अनन्तिम रूप से ‘राजकीय निर्माण एजेन्सी’ घोषित किया गया है मानकीकृत कार्यो हेतु लागत सीमा 5.00 करोड़ एवं गैर मानकीकृत कार्यों हेतु 2.50 करोड़ की लागत सीमा निर्धारित की गयी |


  • सम्बद्ध श्रम संविदा समितियों द्वारा लिए गए ठेको को पूरा कराने में सहायता प्रदान करना, सदस्य श्रम समितियों के लिए उपर्युक्त तथा लाभप्रद व्यवसाय का प्रबन्ध का उन्हें उपलब्ध कराना है।
  • सम्बद्ध श्रम संविदा समिति के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए उपकरण ,संयंत्र, मशीन, औजार आदि आवश्यकतानुसार उपलब्ध कराना है।सम्बद्ध श्रम संविदा समितियों के सदस्यों एवं कर्मचारियों को उनसे सम्बद्ध समितियों के धन्धो में प्रशिक्षित करके उनकी कार्य कुशलता तथा दक्षता बढ़ाना।
  • अपने उद्देश्यों की पूर्ति करने व व्यवसाय को यथोचित ढंग से संचालित करने हेतु सदस्य श्रम संविदा समितियों या अन्य सहकारी संस्थाओ में अंशधन प्राप्त करना ।
  • श्रम संविदा समितियों के आवश्यकता के अनुसार निर्माण कार्यो के आदर्श ड्राइंग, डिजाइन, प्राकलन आदि तैयार कराकर उन्हें उपलब्ध कराना।
  • ऐसे अन्य उपाय करना जो उपर्युक्त उद्देश्यो की पूर्ति में सहायक तथा अनुषांगिक हो।
  • सरकारी एवं सहकारी संस्थाओ, सार्वजनिक संस्थाओ से किसी भी प्रकार के निर्माण कार्य या मरम्मत के लिए उपकरण, संयंत्र या श्रमिक आदि की पूर्ति करने के लिए संविदा लेकर उसे स्वयं या सदस्यों के माध्यम से कार्यान्वित करना।
  • मुख्य उद्देश्य सहकारी, सरकारी एवं विभिन्न उपक्रमों के निर्माण से सम्बन्धित कार्य प्राप्त करके सदस्य श्रम समितियों के माध्यम से कराना था, वर्तमान में 335 सहकारी समितियां सदस्य है।
  • संस्था को वित्तीय वर्ष 2017-18 में 740 निर्माण कार्य प्राप्त हुए जिनकी स्वीकृत लागत रू0 330.86 करोड़ थी, के सापेक्ष रू0 226.28 करोड़ की धनराशि प्राप्त हुई
  • वित्तीय वर्ष 2018-19 में संस्था को रू0 1672 निर्माण कार्य प्राप्त हुए जिनकी स्वीकृत लागत रू0 290.92 करोड़ थी, के सापेक्ष रू0 160.45 करोड़ की धनराशि प्राप्त हुई
  • इसी प्रकार वित्तीय वर्ष 2019-20 में 805 निर्माण कार्य प्राप्त हुए जिनकी स्वीकृत लागत रू0 455.26 करोड़ थी, के सापेक्ष रू0 212.14 करोड़ की धनराशि प्राप्त हुई।
  • उक्त के विरूद्ध संस्था ने वित्तीय वर्ष 2017-18 में रू0 57.00 करोड़, वित्तीय वर्ष 2018-19 में रू0 196.00 करोड़ एवं वित्तीय वर्ष 2019-20 में रू0 203.00 करोड़ का निर्माण कार्य सुचारू एवं उच्च गुणवत्ता के साथ सम्पादित कराया।
  • वर्तमान में शासनादेश संख्या-19/2018/बी-2-1143/दस-2018, दिनांक 17.12.2018 द्वारा पुनः उ०प्र० राज्य निर्माण एवं श्रम विकास सहकारी संघ लि0, लखनऊ को अनन्तिम रूप से ‘राजकीय निर्माण एजेन्सी’ घोषित किया गया जिसके अन्तर्गत मानकीकृत कार्यो हेतु लागत सीमा 5.00 करोड़ एवं गैर मानकीकृत कार्यों हेतु 2.50 करोड़ की लागत सीमा निर्धारित की गयी है |शासन स्तर से संस्था की लागत सीमा में वृद्धि करते हुए तृतीय श्रेणी में सूचीबद्ध किया जाना प्रस्तावित है |
Read more
क्रमांकनामपदनामकब सेकब तक
1 श्री पी0के0 मिश्रप्रशासक16-12-199209-12-1993
2 श्री आर चन्द्राप्रशासक10-12-199321-06-1994
3 श्री पी उमाशंकरप्रशासक10-12-199321-06-1994
4 श्री अशोक कुमार बालियानसभापति31-12-199408-07-1998
5 श्री आर के जैनप्रशासक09-07-199805-03-1999
6 श्री आई0पी0 सिंहप्रशासक06-03-199927-06-1999
7 श्री आर0के0 जैनप्रशासक28-06-199902-08-1999
8 श्री आई0पी0 सिंहसभापति03-08-199902-08-2004
9 श्री देवेन्द्र दुबेप्रशासक03-08-200416-08-2004
10 श्री राम बहादुर सिंहप्रशासक17-08-200403-07-2006
11 श्री राम बहादुर सिंहसभापति04-07-200605-04-2010
12 श्री सुशील कुमार कटियारसभापति06-04-201010-01-2012
13 श्री संजय अग्रवालप्रशासक11-01-201228-03-2012
14 श्री माजिद अलीप्रशासक29-03-201211-04-2012
15 श्री देवाशीष पाण्डाप्रशासक12-04-201213-02-2013
16 श्री कुंवर वीरेन्द्र प्रताप सिंहसभापति13-02-201312-02-2018
17 श्री वीरेन्द्र कुमार तिवारीसभापति31-07-201830-07-2023